अन्य ख़बरे

  • 14
  • जन

अंगराईयाँ चितवन में नाचने लगी यों
केश घटायें मेघ बीच घिरने लगी ज्यों
देख ललाट की छवि छजने लगी यों
ऊषा भरने सूर्य रश्मि उतर आई ज्यों

सनन सनन चलती है पूर्वा पवन से यों
हलचल भरी नव उमंग उमड़े हिय ज्यों
साखी बैठी भोर से साँझ अपलक यों
प्रिया आलिंगन के लिए कोई विधु ज्यों

Image may contain: one or more people, people standing, cloud, sky, twilight, outdoor and nature
 
हास� श्वेत द�न्तों से निकल गूजता यों
निशा काल में गूँजे खड्ग बिजुली ज्यों
इन्द्रधनुषी रंगों की सतरंगी लालिमा यों
चाँद के वरण को आतुर अप्सरा ज्यों

श्वेत चाँदनी बिछी हुई है अम्बर तले यों
सेज सजी हो चाँदनी की प्रणय को ज्यों
तारकावलियाँ टिमटिमाते मन्द- मन्द यों
अधीर हो मुख देखने चाँदनी का ज्यों
 
Image may contain: one or more people, sky and night
 
हर रात चाँदनी रहती साथ चाँद के यों
साँसे न रह सके साँसों के बिना ज्यों
प्रणय की गहराई प्रेमी - प्रिय के बीच यों
आगे जिसके सागर थाह फीकी ज्यों

डॉ मधु त्रिवेदी
 
 
  • 14
  • जन

बन पतंग की डोरी
खींची चली आऊँगी
लाल हरी नीली पीली
पतंगों के बीच गगन
में उड़ खूब इतराऊँगी

पतंग की डोर सी
प्रीत मेरी है पिया
जो दूर आसमां में
मुझे तुझसे मिलाएगी

देख हरी पतंग मुझे
आज मुस्कराई है
छोड़ के जमीं को
आसमा में छाई है

मैं भी उड़ती रही
पीछे -पीछे हरी के
आखिर मुझे आना है
बन के उसकी छाया

डॉ मधु त्रिवेदी
सर्वाधिकार सुरक्षित

  • 12
  • जन

शायद मैं भी नही जानती
कंही तो कुछ ऐसा है जो
मैं भी समझ नही पा रही
मै कुछ लिखना चाहती हूं
पर लिखने को शब्द
नही मिल रहे
लगता है कंही खो गए हैँ
मेरे शब्द
खुद को अभिव्यक्त
करने के लिए मुझे मेरे शब्दों को
ढूंढना ही होगा

Image may contain: one or more people
 
अक्सर एक अंतर्द्वन्द्व सा
महसूस करती हूं अपने अंदर
कुछ घुटन सी महसूस होती है
मानो मेरे शब्द बाहर आने
के लिए छटपटा रहे हों
अगर बाहर न आ सके
तो मेरे शब्द मर जाये गें
फिर कैसे जुबां दूंगी अपने
मनोभावों को
चाहकर भी खुद को बचा न सकूँगी
इतनी घुटन क्यों हो रही है 

मै तो सिर्फ खुद को
पहचान देना चाहती हूं
पर कैसे नही जानती
लिखना चाहती हूँ खुद को
व्यक्त करना चाहती हूँ
पर कैसे नही जानती
मुझे खुद को तलाशना है जो रिश्तों
की भीड़ में कंही खो गई है
खुद को पहचान दिलानी है
इसके लिए अपने कदमो के तले
की जमीं को तैयार करना होगा

Image may contain: sky, cloud, twilight, outdoor and nature
 
खुद के लिए राह तलाशनी होगी
सारी जिंदगी बेटी बहन पत्नी और माँ
बनकर ही तो जीती रही हूं
अब मै खुद के लिए जीना चाहती हूं
क्या ये सम्भव हो सकेगा
"कौन हूं मै"
क्या इसका जवाब मिल सकेगा
"क्या पहचान है मेरी"
.......कुछ भी तो नहीं
रिश्तों की भीड़ में कंही खो गया है
"मेरा अस्तित्व"
मुझे "मेरी पहचान" वापिस चाहिए
......क्या मिल सकेगी मुझे
मेरी पहचान...???
 
रश्मि डी जैन
महसचिव, आगमन साहित्यक समूह
नई दिल्ली
  • 12
  • जन

बिन पिया बैरिन भई सब रातें
किसे बुलाऊँ सौतन भई सब बातें
हेर - हेर देखत कब आये प्राण प्यारा
बिन उसके हाड़ माँस सूख भए खाँचे

पिया गया परदेश न भेद काहूँ को दूँ
सखिन मेरी सब प्रिय के रंग - राती
कोऊँ ठौर न आवे बस मन मेरो दग्धावे
जे भँवरो रोज बैठ कर नियरे सुलगावै

Image may contain: one or more people, outdoor and nature
 

प्रिय के बिन राति ये कल्प सी लागे
उर उरोज में तेरो प्रेम शूल कुटिल उगावे
यह तन सुलग सुलग कर कागा सा लागे
कागा तो अच्छो कोयल के हिय लागे

पूस माघ की ये रातें जी को ठन्डावे
गति मेरे जिय की ऐसी ज्यों सापिन डरावे
धक -धक करता ज्यों इंजन सा जावे
प्रिय बिन बैरिन भये मेरो हिय गात

डॉ मधु त्रिवेदी