अन्य ख़बरे

  • 07
  • अप्रै

लुधियाना । विवादों में फंसी बॉलीवुड अभिनेत्री राखी सावंत का कहना है कि भगवान वाल्मीकि का वह पूरा सम्मान करती हैं। उनके खिलाफ अपशब्द बोलने का मतलब ही नहीं। फिर भी उन्होंने वाल्मीकि समुदाय से बिना शर्त माफी मांग ली है। इसी बीच राखी के यहां अदालत में सरेंडर करने की चर्चाएं हैं, लेकिन बताया जाता है कि वह ऐसा नहीं करेंगी। उनका वकील इस मामले को देख रहा है।

राखी सावंत ने मुबंई से फोन पर बातचीत में कहा कि उन्हें परेशान करने के लिए यह केस किया गया है। वह भगवान वाल्‍मीकि का बेहद आदर करती हैं। उनके बारे में बोलना तो दूर ऐसा सोच भी नहीं सकतीं। इसी बसीच राखी के अदालत में सरेंडर करने की चर्चाएं लुधियाना में गर्म रहीं। इस वजह से न्यायाधीश सुमित सभ्रवाल की अदालत के बाहर वीरवार को भी काफी भीड़ रही। अदालत ने 10 अप्रैल को पेश होने के लिए राखी सावंत के गिरफ्तारी वारंट जारी किए हैं।

राखी सावंत लुधियाना के एक वकील से सलाह मशविरा कर रही हैं। उनके वकील राखी सावंत को अदालत में सरेंडर करवाने की बजाय कानूनी प्रक्रिया का सहारा लेते हुए जिला एवं सेशन जज की अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दायर कर सकते हैं।

दिनभर चली अफवाहों के चलते न्यायाधीश सुमित सभ्रवाल की अदालत के बाहर राखी सावंत की झलक पाने के लिए जहां लोग खड़े रहे, वहीं मीडिया भी राखी का इंतजार करता रहा, लेकिन वह नहीं आईं। बता दें कि तीन दिन पहले राखी को मुंबई में पंजाब पुलिस की टीम द्वारा गिरफ्तार किए जाने की खबरें जाेर-शोर से चलीं थीं, लेकिन पंजाब पुलिस ने इससे इन्‍कार किया था।

मुंबई गई पुलिस की टीम दिए गए पते पर राखी सावंत के नहीं मिलने पर वापस लौट आई थी। इसक बाद से उनका लेकर कयासबाजी का दौर चल रहा है।

  • 07
  • अप्रै

सीकर । सीकर के नेछवा थाना इलाके के जूलियासर गांव में एक शराबी पति ने पत्‍नी के साथ शराब के नशे में जमकर मारपीट की1 नशे में आरोपी पति नरपत सिंह ने पत्‍नी से जमकर मारपीट की1 बाद में उसके प्राइवेट पार्ट पर शराब के प्‍व्‍वे से हमला कर दिया और उसे लहुलूहान कर दिया1 आरोपी पति नरपत सिंह घटना के बाद फरार हो गया1 घायलवस्‍था में पीडिता के परिजनों ने पीडिता को सीकर के एसके अस्‍प्‍ताल में भर्ती कराया है1 जहां उसका इलाज किया जा रहा है1 पीडिता ने बताया कि 17 साल पहले उसकी शादी हुइ थी उसके दो बच्‍चे भी है1 उसका पति रोज उससे मारपीट करता है1 उसका पति बेवजह मारपीट करता है1 पीडिता के परिजनों ने बताया किदोनों बहनों की शादी नरपत सिंह के घर में हुई है1 रोज नरपत सिंह मारपीट करता है1 आरोपी के ख्लिाफ थाने में मामला दर्ज कराया गया है1 पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है1

  • 07
  • अप्रै

मुजफ्फरनगर: यूपी के मुजफ्फरनगर में बीती रात एक डॉक्टर की उसके क्लीनिक में गोली मारकर हत्या कर दी गई. हत्या के बाद गुस्साए लोगों ने जमकर हंगामा किया. हत्या की वजह पैसे के लेन-देन का विवाद बताया जा रहा है.

मुजफ्फरनगर के किदवई नगर इलाके में डॉक्टर की हत्या पर देर रात तक हंगामा होता रहा. गुस्साए लोग डॉक्टर के हमलावरों की गिरफ्तारी की मांग करते रहे. बीती रात इस इलाके में क्लीनिक चलाने वाले डॉ. मेहरबान की गोली मारकर हत्या कर दी गई. डॉ.मेहरबान अपने क्लीनिक में बैठे थे कि बाइक सवार तीन बदमाश आए और उनके क्लीनिक में घुसकर गोली मार दी.

फायरिंग की आवाज सुनकर इलाके में हड़कंप मच गया. डॉक्टर मेहरबान क्लीनिक चलाने के साथ ब्याज पर पैसे देने का काम भी करते थे. हत्या के पीछे पैसे के लेन-देन को ही वजह बताया जा रहा है.

हत्या के बाद लोगों के गुस्से को देखते हुए इलाके में बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात किया गया है. मुजफ्फऱनगर संवेदनशील इलाका माना जाता है. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. अभी तक डॉक्टर को गोली मारने वाले आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है.

उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था एक बड़ा मुद्दा रहा है और चुनाव के दौरान बीजेपी ने इसे बड़ा मुद्दा बनाया था. इसी हफ्ते पहले बीजेपी नेता की हत्या और अब डॉक्टर की हत्या से योगी सरकार पर दबाव आना लाजमी है, क्योंकि नई सरकार पर जनता की उम्मीदों का भारी दबाव है कि वो सूब की कानून व्यवस्था को पटरी पर लाए.

  • 06
  • अप्रै

नई दिल्ली । दक्षिणी एशिया के सबसे पुराने व सबसे लंबे राजमार्ग के तौर पर जाने जाने वाले ग्रांड ट्रंक रोड का अब लोग मूल स्वरूप में दीदार कर सकेंगे। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण(एएसआइ) ने इस रोड का करीब चार किलोमीटर का हिस्सा बिहार के सोन नदी में खोज निकाला है। यह रोड 18 फुट चौड़ी है। आज से करीब 500 वर्ष पहले इसका निर्माण शेरशाह सूरी ने करवाया था।

इस खोज से एएसआइ उत्साहित होकर अब इस संबंध में शोध कराने की तैयारी में है। पुरातत्वविद् शंकर शर्मा ने बताया कि ग्रांड ट्रंक रोड के बारे में लोग अक्सर पढ़ते और सुनते आए हैं। मौजूदा समय में इसे जीटी रोड के नाम से भी जानते हैं लेकिन अभी तक इसके मूल स्वरूप को किसी ने नहीं देखा था।

अब इस ऐतिहासिक राजमार्ग को बिहार के सोन नदी से मूल स्वरूप में देखा जा सकता है। उन्होंने बताया कि पिछले साल आई बाढ़ के कारण इस रोड के ऊपर जमी रेत हटी, जिसके बाद इसका पता चला। यहां का निरीक्षण व शोध करने पर इसके वास्तविक प्रमाण सामने आए।

रोहतास और औरंगाबाद जिले के बीच बहने वाली सोन नदी में 18 फुट चौड़े पत्थरों से निर्मित पुल को साफ देखा जा सकता है। अब इसके और वास्तविक रूप की खोज की जा रही है।

एएसआइ के महानिदेशक राकेश तिवारी ने बताया कि ग्रांड ट्रंक मार्ग की खोज एएसआइ की एक बड़ी उपलब्धि है। इस खोज के बाद अब इस रोड के और प्रमाण मिलने की उम्मीद जगी है। एएसआइ ऐतिहासिक और पुराने शाही मार्गो पर शोध कार्य करा रहा है। अब इस दिशा में शोध किया जाएगा।

क्या है इस रोड का इतिहास

ग्रांड ट्रंक रोड का निर्माण शेर शाह सूरी ने किया था। यह मार्ग हावड़ा के पश्चिम में स्थित बांग्लादेश के चटगांव से शुरू होकर लाहौर (पाकिस्तान) से होते हुए काबुल तक जाता है।

पुराने समय में इसे, उत्तरपथ, शाह राह-ए-आजम, सड़क-ए-आजम और बादशाही सड़क के नामों से भी जाना जाता था। यह मार्ग, मौर्य साम्राज्य के दौरान अस्तित्व में था।