• 16
  • मार्च

इन्दौरः16 मार्च, इन्दौर जिले के बेटमा में पुलिस ने चेकिंग के दौरान गुजरात जा रही एक यात्री बस में से दो लोगों से साढे 29 लाख की नगदी जब्त की है. दोनों युवक हवाला का पैसा लेकर जा रहे थें. पकडे गए युवकों को आयकर विभाग साथ ले गया है. वही जब्त पैसा सरकारी खजाने में जमा कर दिया गया.

बेटमा थाना प्रभारी धीरेन्द्र पाल सिंह ने बताया कि शुक्रवार रात को बेटमा टोल नाके पर वाहनों की चेकिंग कर की जा रही थी.इस बीच इन्दौर से एक यात्री बस (जीजे-14 एक्स-7101) को रोका गया. पुलिस कर्मी जब बस पर चढे तो एक युवक सीट से उठकर छुपने की कोशिश करने लगा. उसे पकड कर तलाशी ली गई तो उसके पास से 20 लाख रुपये मिले. उससे जब पुछताछ की गई तो उसने बस में सवार अपने साथी की जानकारी दी. दूसरे युवक के पास से भी साढे 9 लाख रुपये नगद मिले.पकडे गए युवकों का नाम प्रदीप मनुभाई दर्जी तथा मितुल चौहान दोनोंनिवासी मेहसाणा है. दोनों युवक हवाला के कारोबार से जुडे हुए है. प्रदीप मनुभाई दर्जी हवाला कोरियार   है और उसके कैरियर के रुप में मितुल काम करता था. मितुल ने कपडों के नीचे एक विशेष तरह की जैकेट पहन रखी थी. जिसके अन्दर पैसे छुपा रखे थे. जबकि प्रदीप कोरियर के बैग में पैसा रखा हुआ था. चूंकि नगदी 10 लाख से अधिक थी. इसलिए आयकर विभाग को इसकी सूचना दी गई. आयकर अधिकारी थाने पहुंच कर दोनों युवकों को अपने साथ ले गए. वही जब्त नगदी को सरकारी खजाने में जमा कर दिया गया है.आगे की कार्यवाही आयकर विभाग करेगा.  

  • 13
  • मार्च

इन्दौरः13 मार्च,इन्दौर जिले में चुनाव आयोग के फर्जी अफसर बनकर मतदाता सूची का निरीक्षण करने का मामला सामने आया है.जिला प्रशासन ने इन फर्जी अफसरों के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करायी है. पुलिस इनकी पहचान में जुटी हुई है.

मामला देपालपुर तहसील का है.

पुलिस के अनुसार मार्च को दोपहर बजे के आसपास देपालपुर के बीएलओ (बूथ लेवल ऑफिसर) के पास दो गाड़ियों से 8लोगों की टीम पहुंची थी. जिसमें महिलाएं भी शामिल थें.  इनके साथ गनमेन भी थे. उन्होने वहाँ बीएलओ को बुलाया और कहा कि हम चुनाव आयोग से हैं और मतदाता सूची की जांच करने आए है.


बीएलओ फर्जी चुनाव अफसरों की बातों में आ गए.  वे फर्जी अधिकारियों को कुछ गांवों में ले गए. जहाँ वे मतदाता सूची की जांच की और कुछ मतदाताओं से चर्चा की. इसके बाद कुछ मतदाताओं के नाम हटाने के निर्देश बीएलओ को दिए और वहां से रवाना हो गए. बीएलओं चुनाव आयोग से दल आने की जानकारी अपने वरिष्ठ अधिकारियों को नहीं दी. जब यह बात उजागर हुई तो उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने बीएलओ को जमकर लताड़ लगाई. जिला प्रशासन ने पत्र लिखा कर इन फर्जी अधिकारियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करायी. पुलिस ने शासकीय कार्य में बाधा सहित अन्य धाराओं में मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है.

 

  • 13
  • मार्च

नवीन वैष्णव अजमेर
देश में रहकर चंद रूपयों के लिए दुश्मन देश की मदद करने वाला नवाब खां राजस्थान पुलिस की इंटेलीजेंस के हत्थे चढ़ गया है। इंटेलीजेंस के एडीजी उमेश मिश्रा ने बताया कि जैसलमेर के सम थाना क्षेत्र में रहने वाला नवाब खां पेशे से टैक्सी चालक है जो पर्यटकों को घूमाने का काम करता है। वह इस पेशे की आड़ में पाकिस्तान को सेना व देश के बॉर्डर से जुड़ी जानकारियां भेजता था। इसे भेजने के लिए भी वह कोड़िंग काम में लेता था। मिश्रा ने बताया कि नवाब खां पाकिस्तान के लिए जासूसी का काम करता था। पाकिस्तान के हैंडलिंग अधिकारियों को वह व्हॉटसएप कॉल और मैसेज के जरिए कोड़ में संदेश देता था। वहीं टास्क के रूप में भी वह काम करता था। इसकी एवज में उसे पाकिस्तान की ओर से चंद रूपए दिए जाते थे। 
धार्मिक यात्रा से शुरू हुआ खेल
एडीजी मिश्रा ने बताया कि वर्ष 2018 की शुरूआत में नवाब खां अपने पिता व अन्य परिजनों के साथ पाकिस्तान में धार्मिक यात्रा पर गया था। इसी दौरान उसके पिता के रिश्तेदार ने ही पाक खुफिया एजेंसी के अधिकारी से मुलाकात करवाई थी साथ ही उसे बड़ी रकम की पेशगी भी की गई थी। नवाब खां द्वारा जासूसी के काम के लिए हां करने पर उसे स्पेशल ट्रेनिंग भी दी गई। वह पाकिस्तान 22 दिन रूककर आया था। फिलहाल नवाब खां से जयपुर में गहनता से पूछताछ की जा रही है।
टीम को बधाई
देश से गद्दारी करने वाले नवाब खां को पकड़ने वाली टीम को बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं। इसी तरह से काम करते हुए देश में रहकर गद्दारी करने वालों को सबक सिखाए, साथ ही मैं ऐसी जरा सी भी सोच रखने वाले लोगों से गुजारिश करना चाहूंगा कि वह एक बार उस मुल्क में जाकर रहें, उन्हें इस बात का अंदाजा हो जाएगा कि वाकई में हिन्दुस्तान और यहां की जनता से बेहतर कोई नहीं है। रही चंद रूपयों के लिए ऐसा करने की बात तो, यह अपनी जन्मदात्री मां को दुश्मनों के हाथों बेचने जैसा है, इसलिए देश के प्रति वफादार रहें।

नवीन वैष्णव
(पत्रकार), अजमेर

  • 10
  • मार्च

जयपुर// राजधानी में जयपुर एयरपोर्ट पर रविवार को फिर से कस्टम विभाग ने अवैध तरीके से सोना छिपाकर आए एक यात्री को पकड़ लिया। उसके कब्जे से 583 ग्राम सोना बरामद किया गया है। यह कार्रवाई कस्टम अपर आयुक्त डॉ. मंजूर अली के नेतृत्व में की गई। तस्करी का यह सोना यात्री एक एलईडी लाइट में छिपाकर ला रहा था। कस्टम अधिकारी तस्करी कर सोना लाने वाले यात्री से पूछताछ कर रहे हैं। पकड़े गए यात्री का नाम गणपत शर्मा है, जो कि नेपाल का रहने वाला बताया जा रहा है। वह एयर अरबिया की फ्लाइट के जरिए शारजाह से रविवार सुबह जयपुर एयरपोर्ट पहुंचा था।

कस्टम विभाग की यात्री लगैज की चैकिंग की दौरान स्कैनिंग मशीन में एलईडी लाइट्स में सोने के बिस्कुट नजर आए। इस पर कस्टम विभाग के अधिकारियों ने यात्री गणपत शर्मा को पकड़ लिया। इसके बाद यात्री के एलईडी लाइट को खोलकर चैक किया। तब उसमें बिस्कुट के आकार के सोने की टिकिया मिली। इसका वजन करीब 583 ग्राम था।