• 01
  • अक्टू

सिवान  राजद नेता मिनहाज की हत्या के मुख्य आरोपित कुख्यात राजा खान की करीब 12 घंटे तक पुलिस से मुठभेड़ हुई। इस बीच वह भागकर अपने एक करीबी के घर में जा घुसा। पुलिस ने वहां भी उसे घेर लिया, लेकिन ग्रामीणों ने कानून हाथ में लेकर पुलिस की मौजूदगी में उसे पकड़कर मार डाला। मिन्हाज सिवान के पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन का करीबी था। उसकी हत्‍या के बाद सिवान का राजनीतिक माहौल गरमा गया था।

सिवान के बसंतपुर थाना क्षेत्र के शेखपुरा निवासी राजद नेता मिनहाज की हत्या गत 29 जुलाई को कर दी गई थी। राजा के अलावा इस मामले में सभी आरोपित जेल में हैं। शनिवार देर शाम कुछ ग्रामीणों ने उसे बाइक पर देखा तो पकड़ना चाहा, लेकिन वह फायरिंग करते हुए बसांव स्थित एक तालाब में कूद गया।

इसकी जानकारी मिलने पर पुलिस ने उसे घेर लिया। उसकी बाइक को बरामद कर लिया गया। रात होने के कारण वह फायरिंग के बीच किसी तरह अपने एक साथी मुकद्दर के घर तक पहुंचने में कामयाब हो गया। इसके बाद आज सुबह पुलिस ने उस घर को घेर कर उसे सरेंडर करने के लिए कहा तो उसने फायरिंग शुरू कर दी।

राजा खान अपने गिरोह के साथ घर में छिपा था। पुलिस ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर रखी थी। दोनों तरफ से गोलियां चल रही थीं। लेकिन, मिनहाज की हत्‍या से आक्रोशित ग्रामीण दुस्‍साहस का परिचय देते हुए घर में घुस गए। उन्‍होंने राजा खान को पकड़कर बाहर निकाला और पिटाई शुरू कर दी।

भीड़ के सामने असहाय बनी पुलिस बस देखती रह गई और लोगों ने राजा खान को जमकर पीटा। फिर, बुरी तरह घायल राजा खान को उसके ही हथियार से गोली मार दी।

  • 01
  • अक्टू

हिसार । सदर थाना पुलिस ने एक गांव में रहने वाली महिला की शिकायत पर सातरोड खास निवासी अमित पर छेड़छाड़, दुष्कर्म व धमकी देने का केस दर्ज किया है। लड़के ने महिला से पहली बातचीत की और बाद में जबरन दुष्कर्म किया और धमकी देने लगा। वारदात में एक अन्य महिला पर भी संलिप्तता का आरोप है।

पुलिस को दी शिकायत में पीड़िता ने बताया कि आरोपी अमित का बीड़ बबरान में नानका है। वह अपने रिश्तेदार के पास आता जाता रहता था। वहीं, पीड़िता के ससुर की डेयरी है। उसमें अमित को काम पर रख लिया था। इस दौरान पीड़िता के साथ अमित की बोलचाल शुरू हो गई थी। बताया जाता है कि एक अन्य महिला ने भी लड़के का साथ दिया था।

आरोप है कि अमित ने जबरन उससे अवैध संबंध बनाए और फिर फोन पर धमकी देने लगा था। इसके बाद अमित ने फिर से उसके साथ दुष्कर्म किया। यह बात महिला के ससुरालियों को पता चली तो अमित को काम से निकाल दिया था। आरोप है कि 29 सितंबर को अमित गांव में आया। उस दौरान पीड़िता पानी लेने के लिए जा रही थी। तभी उसने शोर मचा दिया और उसके चंगुल से निकल भागी।

  • 29
  • सित

रूपनगर 29 सितम्ब। चार दिन बाद रूपनगर पुलिस ने स्कूल के लिए घर से निकले दो भाईयों के लापता होने के मामले को सुलझा लिया है, लेकिन दोनों भाई अब इस दुनिया में नहीं है। दोनों भाईयों को रूपनगर-लोदीमाजरा मार्ग पर सदाव्रत के दरिया की तरफ वाले जंगल में ले जाकर इनकी मां रजनी के साथ  लीव इन रिलेशन में रह रहे अशोक कुमार उर्फ पिंटू (27) पुत्र बृजमोहन ने तालाब में डुबोकर मार दिया। पिंटू गांव खरोदे जिला मेरठ (उप्र) हाल निवास गांव बमेटा जिला बमेटा जिला गाजियाबाद (उप्र) का रहने वाला है। जबकि रजनी पिंटू को अपना पति बताकर अपने साथ रखे हुए थी।

एसएसपी राज बचन सिंह संधू के मुताबिक पिंटू रजनी से विवाह करके गाजीयाबाद ले जाना चाहता था तथा अपना बच्चा पैदा करना चाहता था। लेकिन रजनी पहले ही तीन बच्चों का हवाला देकर इन बातों के लिए नहीं मान रही थी। इस कारण पिंटू ने बच्चों को रास्ते से हटाकर रजनी से शादी करने की बात सोची थी।

पुलिस ने वीरवार सायं उस जगह को चारों तरफ से कवर कर लिया, जहां से बच्चों के शव बरामद किए गए हैं। मीडिया को भी मौका ए वारदात पर जाने नहीं दिया गया। दोनों भाई मानव (10) और शिवम (6) एसडी कन्या पाठशाला स्कूल छोटा खेड़ा रूपनगर में पढ़ते थे। मानव तीसरी तथा शिवम नर्सरी में पढ़ता था।

पुलिस ने बताया कि बच्चों की मां रजनी जोकि ऊंचा खेड़ा मोहल्ले में दलीची गली में किराये पर रहती है, के बयान पर 25 सितंबर को लापता हुए दोनों भाईयों के मामले में पहले गांव फूल खुर्द के व्यक्ति से पूछताछ की थी। रजनी ने शक जताया था कि ये व्यक्ति उसके बच्चों का अपहरण कर सकता है। क्योंकि इसी व्यक्ति ने उसे विवाह करवाने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन जब उसे पता चला कि वो विवाहित है तो उसने विवाह करने से मना कर दिया था।

रूपनगर के एसएसपी राज बचन सिंह संधू ने बताया कि पुलिस ने पड़ताल के दौरान अशोक कुमार उर्फ पिंटू से सख्ती से पूछताछ की तो उसने माना कि वो रजनी के साथ पिछले एक साल से लिव इन रिलेशन में रहता है। रजनी की पहले शादी बब्लू वासी करनाल (हरियाणा) के साथ हुई थी। उससे उसकी एक बेटी जीया है। बब्बलू की मौत के बाद रजनी की दूसरी शादी बब्बलू के रिश्तेदार सतीश वासी दिल्ली के साथ हुई। उससे बेटा मानव पैदा हुआ।

सतीश की मौत के बाद तीसरी शादी बलदेव सिंह वासी रहीमाबाद थाना माछीवाड़ा के साथ हुई थी। उससे बेटा शिवम पैदा हुआ। बलदेव के साथ अनबन होने के बाद रजनी ने अपने बच्चों मानव तथा शिवम समेत किराये के मकान में रह रही थी।

एसएसपी संधू ने बताया कि आरोपी पिंटू रजनी के चरित्र पर शक करता था और अपना गुस्सा बच्चों पर मारपीट करके निकलता था। 25 सितंबर को सुबह जब रजनी ने बच्चे तैयार करके स्कूल भेजे तो पिंटू भी बच्चों के पीछे घर से चला गया। पिंटू ने अपने दोस्त का मोटरसाइकिल मांगकर बच्चों को साथ लेकर सतलुज दरिया किनारे सदाव्रत जंगल में ले जाकर पानी में डुबोकर मार दिया।

 

  • 28
  • सित

पटना 28 सितम्बर। डिफेंस अधिकारी बनकर एक शख्स लड़कियों से शादी करता था और फिर लाखों की ठगी कर रफूचक्कर हो जाता था। इसका पर्दाफाश तब हुआ जब पटना जिले के जिला शिक्षा प्रशिक्षण संस्थान बिक्रम में रह कर ट्रेनिंग ले रही एक लड़की ने पुलिस पदाधिकारियों से उसकी शिकायत कर कार्रवाई की मांग की।

पीड़िता का आरोप है कि मैट्रिमोनियल साइट्स पर उसने अपनी शादी के लिए प्रोफाइल अपलोड की हुई थी। इसी क्रम में मैट्रिमोनियम साइट्स के द्वारा उसके नंबर पर कॉल आया और यूपी के बलिया के रहनेवाला चंद्रकांत सिंह से परिचय कराया गया, उसे शादी के लिए उपयुक्त लड़का बताया गया।

साथ ही लड़के वाले की कई तस्वीरें, मोबाइल नंबर और उसके रिश्तेदार का नंबर देते हुए संपर्क करने के लिए बताया गया। यह भी बताया गया की लड़का फिलहाल भुनेश्वर में रहता है।

इसके बाद दोनों ने शादी करने का निर्णय लिया। इसी क्रम में तथाकथित आर्मी ऑफिसर शेखर सिंह ने लड़की से 20 हजार रुपये अपने अकाउंट पर लिया। इसी बीच लड़की के पिताजी की तबीयत अचानक खराब हो गयी। वह अपने पिताजी को देखने बिक्रम से छपरा पहुंच गयी। बीते एक माह पहले अगस्त में शेखर सिंह ने लड़की से शादी कर नौकरी पर जाने की बात कह चलता बना।

शादी के बाद जैसे ही लड़की ने शेखर सिंह के फेसबुक प्रोफाइल को चेक किया, तो पाया कि शेखर सिंह शादीशुदा है, उसकी एक बच्ची भी है। तथाकथित नकली आर्मी ऑफिसर शेखर सिंह के राज का पर्दाफाश होने के बाद वह अपने रुपये की मांग करने लगी।

इस पर शेखर ने पीड़ित लड़की को अनाप-शनाप कहते हुए जीवन बरबाद करने की धमकी दी। पीड़िता ने एसएसपी मनु महाराज को वाट्सअप पर मैसेज कर घटना की जानकारी दी है। वहीं, बिक्रम थाना और पालीगंज डीएसपी को लिखित आवेदन दे न्याय की गुहार लगायी है।