• 26
  • अप्रै

नई दिल्ली : सूरत के सत्र न्यायालय ने आसाराम के बेटे नारायण साई को रेप का दोषी पाया है। कोर्ट 30 अप्रैल को नारायण साई के सजा का ऐलान करेगा। सूरत की दो बहनों ने नारायण साई पर रेप का आरोप लगाया था। आसाराम को पहले ही रेप के मामले में सजा हो चुकी है और वह जेल में बंद है। 

पुलिस ने पीड़ित बहनों के बयान और लोकेशन से मिले सबूतों के आधार पर केस दर्ज किया था। नारायण साईं और आसाराम के खिलाफ रेप का केस करीब 11 साल पुराना है। पीड़िता छोटी बहन ने अपने बयान में नारायण साईं के खिलाफ ठोस सबूत देते हुए हर लोकेशन की पहचान की है। जबकि बड़ी बहन ने आसाराम के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था। आसाराम के खिलाफ गांधीनगर के कोर्ट में मामला चल रहा है। यानी बाप-बेटे दोनों पर रेप का आरोप है।

 2013 में अरेस्ट हुआ था बेटा

 नारायण साईं पर रेप के मामले में एफआईआर दर्ज होने के करीब दो महीने बाद दिसंबर, 2013 में उसे हरियाणा-दिल्ली सीमा के पास से गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के वक्त नारायण साईं ने सिख व्यक्ति का भेष धर रखा था। खुद को कृष्ण का रूप बाताने वाले नारायण साईं की गिरफ्तारी के बाद उसके कृष्ण की तरह महिलाओं के बीच बांसुरी बजाने के कई वीडियो भी सामने आए थे।

 

  • 19
  • अप्रै

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से हमीरपुर के विधायक अशोक सिंह चंदेल को 22 साल पुराने हत्याकांड में दोषी पाते हुए इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को उन्हे आजीवन कारावास की सजा सुनाई। उन पर 26 जनवरी 1997 को दिन दहाड़े पांच लोगों की हत्या आरोप था। इस मामले में उच्च न्यायालय ने भाजपा विधायक समेत 10 अन्य को दोषी मानते हुए सजा की घोषणा की।

चंदेल के अलावा रघुवीर सिंह,आशुतोष सिंह उर्फ डब्बू, साहब सिंह, भान सिंह, प्रदीप सिंह, उत्तम सिंह, श्याम सिंह आदि को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा और न्यायमूर्ति डी. के. सिंह की खंडपीठ ने मामले में सजा सुनाई। अदालत ने सभी दोषियों को तुरंत हिरासत में लिए जाने के आदेश भी दिए हैं। इस मामलें में पीड़ित राजीव शुक्ला ने बताया, “26 जनवरी 1997 में मेरे परिवार के तीन सदस्यों समेत पांच लोगों की हत्या हुई थी। इसमें मेरे बड़े भाई राजेश शुक्ला, राकेश शुक्ला, राकेश के पुत्र गणेश के अलावा वेद प्रकाश नायक और श्रीकांत पांडे शामिल थे। वेद प्रकाश और श्रीकांत हमारे निजी सुरक्षाकर्मी थे।

उन्होंने बताया, “निचली आदलत के न्यायाधीशों ने पैसे लेकर मामले में सभी को बरी कर दिया था। बाद में जांच होने पर दो न्यायाधीशों को बर्खास्त कर दिया गया था। उन्होंने इसे अन्याय के खिलाफ जीत बताई है। उनका कहना कि इस मामले में अपराधी को फांसी होनी चाहिए थी। गौरतलब है कि इस मामले में विधायक अशोक सिंह चंदेल समेत 12 नामजद आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। मुकदमे में विधायक समेत 11 लोगों को जिला एवं सत्र न्यायालय के बरी करने के बाद राजीव शुक्ला ने मामले की अपील इलाहाबाद उच्च न्यायालय में की थी। इस मामले में सत्र न्यायालय ने एक आरोपी रूक्कू को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

 

  • 13
  • अप्रै

नवीन वैष्णव अजमेर
रामगंज थाना पुलिस ने गुजरात की युवती से सामुहिक दुष्कर्म करने वाले तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। तीनों को फिलहाल बापर्दा रखा गया है। जांच अधिकारी डॉ प्रियंका ने बताया कि गुजरात की युवती को एक युवक सुभाष नगर स्थित प्रीतम रावत के किराए के मकान में ले गया था, जहां पहले से मौजूद आधा दर्जन युवकों ने बारी बारी से उसके साथ दुष्कर्म किया। युवती को अचेतावस्था में जेएलएन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मामले में प्रीतम रावत, विशाल रावत और हनुवंत रावत को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनसे गहनता से पूछताछ की जा रही है। आपको बता दें कि पीड़िता को भी पुलिस संदेह की दृष्टि से देख रही है।

नवीन वैष्णव
अजमेर

  • 12
  • अप्रै

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के क्वेटा में शुक्रवार को हुए एक धमाके में 16 लोगों की मौत हो गई। 30 जख्मी हुए हैं। डीआईजी अब्दुल रज्जाक चीमा ने इसकी पुष्टि की। धमाके में हजारा समुदाय को निशाना बनाया गया। पुलिस ने मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई है। पुलिस के हवाले से 'डॉन' ने बताया कि घायलों को बोलन मेडिकल कॉम्प्लेक्स में भर्ती कराया गया है। 

'हमले के जिम्मेदारों को बख्शा नहीं जाएगा'
रेडियो पाकिस्तान के मुताबिक, प्रधानमंत्री इमरान खान ने घटना की निंदा की और इसकी रिपोर्ट मांगी है। बलूचिस्तान के मुख्यमंत्री जाम कमाल ने कहा कि हमले के जिम्मेदारों को बख्शा नहीं जाएगा। शांति भंग की साजिश करने वालों का जल्द पता लगाया जाएगा। कट्टरपंथी विचारधारा के लोग समाज को तोड़ने का काम कर रहे हैं।

5 साल में 509 हजारा मारे गए
पाक के नेशनल कमीशन फॉर ह्यूमन राइट्स (एनसीएचआर) के मुताबिक- जनवरी 2012 से दिसंबर 2017 तक क्वेटा में हुए आतंकी हमलों में हजारा समुदाय के 509 लोग मारे गए और 627 जख्मी हुए। एनसीएचआर ने कहा, क्वेटा में हत्याएं, धमाके और फिदायीन हमले किए जा रहे हैं। इसके चलते वहां रोजमर्रा की जिंदगी पर असर पड़ रहा है।

अफगानिस्तान का तीसरा बड़ा समुदाय है हजारा
हजारा समुदाय मध्य अफगानिस्तान में रहता है। ये लोग शिया होते हैं और हजारगी उपभाषा बोलते हैं। यह अफगानिस्तान का तीसरा सबसे बड़ा समुदाय हैं। अफगानिस्तान में इनकी आबादी को लेकर विवाद है और यह 26 लाख से 54 लाख के बीच में मानी जाती है। ये लोग कुल अफगान आबादी का करीब 18% हिस्सा हैं। अफगानिस्तान में जब तालिबान का शासन था, तो शिया होने के चलते हजारा लोगों कई जुल्म ढाए गए। इसके चलते समुदाय की एक बड़ी संख्या पाकिस्तान जाने के लिए मजबूर हो गई। ये ज्यादातर क्वेटा में बसे हुए हैं।