• 15
  • फरव

नयी दिल्ली, 15 फरवरी (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने बिहार के बाहुबली पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन को सीवान जेल से दिल्ली की तिहाड़ जेल में स्थानांतरित करने का आज आदेश दिया।
न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति अमिताभ रॉय की पीठ ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के बाहुबली नेता को एक सप्ताह के भीतर तिहाड़ भेजने का आदेश दिया।
पीठ के लिए न्यायमूर्ति मिश्रा ने आशा रंजन एवं चंद्रकेश्वर प्रसाद उर्फ चंदा बाबू की याचिकाओं पर फैसला सुनाते हुए कहा कि शहाबुद्दीन के खिलाफ निचली अदालत में सुनवाई तिहाड़ जेल से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये की जाएगी।

  • 10
  • फरव

वडोदरा, 10 फरवरी गुजरात के महीसागर जिले में 14 लाख रूपये की लूट के मामले में पकडे गये नकली पुलिस महानिदेशक के घर की तलाशी के दौरान आज दो बंदूक, पुलिस की वर्दी, फर्जी पहचान पत्र और अन्य दस्तावेज बरामद किये गये।
राजेश व्यास उर्फ राज व्यास को पिछले दिनों लूट कांड में पकडा गया था। वह लंबे समय से स्वयं को अग्निशमन विभाग के डीजी तथा पुलिस उपमहानिरीक्षक डीआईजी के तौर पर पेश करता रहा था। उसने अपने एक परिचित को इसी धाक धमक की बदौलत अग्निशमन विभाग में नौकरी भी दिलायी थी तथा दो साल पहले वह एक स्थानीय समाचार चैनल के कार्यक्रम में बतौर डीआईजी शामिल भी हुआ था।

  • 09
  • फरव

इंदौर, 09 फरवरी  मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में तीन वर्षीय एक बालक को लावारिस हालत में छोडकर उसके माता पिता फरार हो गये। बच्चे को चाइल्ड लाइन के सुपुर्द किया गया है।
चाइल्ड लाइन समन्वयक ने बताया की लगभग एक सप्ताह पूर्व इंदौर के एक मंदिर के बाहर चोटिल अवस्था में बालक को उसके माता पिता लावारिस हालत में छोड़कर फरार हो गए थे। इस बीच मंदिर के बाहर पूजन-प्रसाद सामग्री बेचने वाले एक परिवार ने बालक का उपचार करवाकर उसे अपने पास रखा। आज जब बालक स्वस्थ हुआ, तब दंपति ने चाइल्ड लाइन को सूचना देकर बालक को सुपर्द कर दिया है।
(वार्ता)

  • 18
  • जन

जोधपुर 18 जनवरी राजस्थान में बहुचर्चित हिरण शिकार प्रकरण के आर्म्स एक्ट मामले में 19 साल बाद फिल्म अभिनेता सलमान खान को जोधपुर की एक अदालत ने आज दोषमुक्त करते हुए बरी कर दिया हैं।
जोधपुर जिला के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट दलपत सिंह राजपुरोहित ने उन्हें संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया है।
इस दौरान न्यायालय में सलमान की बहन अलवीरा भी उपस्थित थी।

18 साल पुराने आर्म्स एक्ट मामले में जोधपुर की अदालत ने अभिनेता सलमान को बरी कर दिया है। अब उन्हें जेल नहीं जाना पड़ेगा। कोर्ट ने  सलमान से उनका नाम पूछने के बाद कहा-आप दोषमुक्त किए जाते हैं। कोर्ट ने उन्हें संदेह का लाभ के तहत बरी किया है।  इससे पहले सलमान के वकील ने भी दावा किया था कि वह बरी हो गए हैं। जज के आने के बाद भी जब सलमान कोर्ट नहीं पहुंचे तो उन्हें आधे घंटे में पेश होने का आदेश दिया गया था। सलमान की बहन अलवीरा खान भी कोर्ट में उनके साथ थीं। सलमान खान के खिलाफ दर्ज 4 मामलों से यह एक था। आरोप था कि सलमान की बंदूक या राइफल का लाइसेंस खत्म हो चुका था।

खान और उनकी बहन अलवीरा मंगलवार शाम यहां पहुंचे थे। सलमान खान अपने बॉडीगार्ड के साथ हरी महल पैलेस होटल में रुके हैं। इस मामले से जुड़े दोनों पक्ष की जिरह नौ जनवरी को पूरी हो गई थी, जिसके बाद मजिस्ट्रेट दलपत सिंह राजपुरोहित ने अभिनेता को अदालत में उपस्थित रहने का निर्देश देते हुए अपने फैसले को 18 जनवरी तक के लिए सुरक्षित रख लिया था।

इससे पहले उनके वकील ने कोर्ट में मजबूती से उनका पक्ष रखा था। सलमान खान के वकील ने पूरे मामले को ही गलत ठहराते हुए दमदार तर्क दिए थे। उनका कहना था कि सलमान खान का पता मुंबई के बजाय जोधपुर का बताया गया है और मुख्य गवाह पूनम चंद के बयान दर्ज नहीं कराए गए हैं। इसके साथ ही वन विभाग के अधिकारियों ने एयरगन बरामद होना बताया है।

गौरतलब है कि 1998 में फिल्म ‘हम साथ-साथ हैं’ की शूटिंग के दौरान सलमान खान पर 3 अलग-अलग जगहों पर हिरणों का शिकार करने का आरोप है। इनमें से दो में उन्हें हाईकोर्ट से बरी किया जा चुका है। जबकि एक अन्य मामले की सुनवाई जोधपुर कोर्ट में 25 जनवरी को है।

जानिए इस मामले में कब क्या हुआ
26-27 सितंबर 1998-भवाद गांव में दो चिंकारा की मौत।
28-29 सितंबर 1998– मथानिया (घोड़ा फार्म) में एक चिंकारा का शिकार।
1 अक्टूबर 1998 की रात सलमान पर कांकाणी गांव की सरहद में दो काले हिरणों के शिकार का आरोप लगा।
17 फरवरी 2006 -निचली अदालत (सीजेएम) ने उन्हें दोनों मामलों में दोषी ठहराते हुए एक साल की सजा सुनाई।
10 अप्रैल, 2006 को इसी मामले में पांच साल के कारावास की सजा सुनाई थी।
2007 में करीब एक सप्ताह तक जेल में रहे थे।
सलमान ने दोषी ठहराए जाने के फैसले को सेशन्स कोर्ट में चुनौती दी थी। सेशन्स कोर्ट ने मथानिया के मामले में याचिका खारिज कर दी थी और भवाद के मामले में याचिका को हाई कोर्ट भेज दिया था।
16 नवंबर 2015 से 13 मई 2016 तक इन दोनों मामले में हाई कोर्ट में सुनवाई चली।
जुलाई 2016 में राजस्थान हाईकोर्ट ने सबूतों के अभाव में सलमान खान को बरी कर दिया था।
-हाईकोर्ट ने दोनों मामलों में सलमान को बरी कर दिया। अब इस फैसले को राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।
9 जनवरी 2017– आर्म्स एक्ट मामले में दोनों पक्षों की जिरह पूरी हो गई थी, जिसके बाद मजिस्ट्रेट दलपत सिंह राजपुरोहित ने अभिनेता को अदालत में उपस्थित रहने का निर्देश देते हुए अपने फैसला सुरक्षित रखा था।
18 जनवरी 2017 में कोर्ट ने सलमान को बरी किया।

पृष्ठ 15 का 15