• 11
  • अप्रै

नवीन वैष्णव अजमेर
अजमेर के सुभाष नगर क्षेत्र में गुजरात की युवती से गैंगरेप का सनसनीखेज मामला सामने आया है। युवती को अचेतावस्था में जवाहरलाल नेहरू अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। रामगंज थानाधिकारी गोमाराम ने बताया कि अलसुबह युवती अचेत हालत में पड़ी हुई थी उसे जेएलएन अस्पताल पहुंचाया गया। युवती ने होश में आने के बाद बताया कि उसे एक युवक ने अजमेर बुलाया था जो उसे सुभाष नगर स्थित मकान में लेकर गया। जहां पहले से 4-5 युवक मौजूद थे। सभी ने 
बारी बारी से उसके साथ दुष्कर्म किया और दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी। इतना ही नहीं उसकी सोने की चेन, मोबाईल और पर्स भी चीन लिया। वह जैसे तैसे उनके चंगुल से बची। थानाधिकारी गोमाराम ने कहा कि मामला दर्ज करके मकानमालिक को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है। मामले की जांच की जा रही है।
कॉलगर्ल है युवती!
पुलिस के अधिकारिक सूत्रों की मानें तो युवती देह व्यापार से जुड़ी हुई है। युवती रूपए तय करके ही युवक के साथ जाने को राजी हुई थी लेकिन वहां आधा दर्जन से अधिक युवकों ने युवती को अपनी हवस का शिकार बना डाला और दरिंदगी भी की। इससे युवती की तबियत बिगड़ गई। पुलिस ने पीड़िता का मेडिकल मुआयना करवाया है।
अजमेर में दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की पर है देहव्यापार
अजमेर जिले में देह व्यापार दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की पर है। यहां इंटरनेट के जरिए तक इंडियन व विदेशी लड़कियां परोसी जा रही है। इतना ही नहीं होटल तक की सुविधा भी उपलब्ध करवाई जा रही है। सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए हजारों रूपए खर्च कर रहे हैं। इस कल्चर का यूथ जनरेशन पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है। जानकार सूत्रों की मानें तो अजमेर-पुष्कर में रोजाना बड़ी संख्या में लड़कियां सप्लाई की जा रही है इसमें दलाल व इंटरनेट का सहारा लिया जाता है। इतने बड़े स्तर पर यह गौरखधंधा चलने के बाद भी पुलिस बेखबर बनी हुई है। इससे ऐसे काम करने वालों के हौंसले बढ़ते ही जा रहे हैं।

नवीन वैष्णव
(पत्रकार), अजमेर

  • 11
  • अप्रै

अमरावती। आंध्र प्रदेश में जन सेना पार्टी के एक उम्मीदवार को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को क्षतिग्रस्त करने के आरोप में गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया। राज्य की 25 लोकसभा सीटों और 175 सदस्यीय विधानसभा के लिए मतदान हो रहे हैं।

पुलिस ने कहा कि मधुसूदन गुप्ता ने अनंतपुर जिले के गुंतकल विधानसभा क्षेत्र के एक मतदान केंद्र पर ईवीएम को फर्श पर फेंक दिया। गुट्टी में मतदान केंद्र पर अपना वोट डालने आए गुप्ता मशीन पर ठीक से विधानसभा और संसदीय क्षेत्रों के नाम नजर नहीं आने से मतदान कर्मचारियों से नाराज थे। उन्होंने ईवीएम को उठाकर फर्श पर फेंक दिया। इस घटना में मशीन क्षतिग्रस्त हो गई। घटना के बाद गुप्ता को फौरन गिरफ्तार कर लिया गया।

 

  • 16
  • मार्च

नवीन वैष्णव अजमेर
अजमेर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड़ में सवा दो करोड़ रूपए का गबन करने वाली पूर्व मिसेज इंडिया अन्नपूर्णा सैन व उसके दोस्त अमित वर्मा को गाजियाबाद से गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों से गहन पूछताछ की जा रही है। मामले में अहम बात यह सामने आई है कि कई अधिकारियों के भी इस घोटाले से तार जुड़े हुए हैं। वह भी जल्द गिरफ्तार होंगे। जिला पुलिस कप्तान कुंवर राष्ट्रदीप ने बताया कि अन्नपूर्णा सैन वाणिज्यिक सहायक के पद पर काम करते हुए 2 करोड़ 21 लाख का गबन किया था। इस मामले में एवीवीएनएल के अधिकारियों द्वारा क्रिश्चयगंज थाने में मुकदमा दर्ज करवाया था। मामले की जांच में सामने आया कि आरोपी अन्नपूर्णा सैन के पिता व मामा की भी इस गबन में खासी भूमिका रही थी। ऐसे में दोनों को गिरफ्तार किया गया वहीं राजसमंद के देवनगर निवासी भुवनेश उर्फ भगवती गुर्जर को भी अरेस्ट किया था। भुवनेश ने 35 खातों की डिटेल्स कलेक्ट करके इसमें गबन की राशि ट्रांस्फर करवाई थी। इसके चलते भुवनेश को आरोपी बनाया गया। मुख्य आरोपी अन्नपूर्णा पिछले काफी समय से फरार चल रही थी। अन्नपूर्णा के सहयोगी व दोस्त सियाराम नगर निवासी अमित वर्मा दोनों के गाजियाबाद में फ्लेट किराए पर लेकर रहने की सूचना मिलते ही पुलिस ने वहां दबिश दी और दोनों को दबोच लिया। 
अधिकारी होंगे गिरफ्तार!
पुलिस अधिकारियों ने पूछताछ में बताया है कि प्रथम दृष्टया पूछताछ में अन्नपूर्णा सैन ने एवीवीएनएल के अधिकारियों द्वारा दबाव में गबन करवाने और इसकी एवज में मात्र दस से बारह फीसदी कमीशन राशि देने की बात कही है। इस बारे में पुलिस अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं। पुलिस अधिकारियों की मानें तो अन्नपूर्णा भले ही अधिकारियों द्वारा गबन की मोटी रकम लेने की बात कह रही हो लेकिन किसी भी अधिकारी को रूपए देने का कोई सबूत अब तक सामने नहीं आया है। अन्नपूर्णा का इस मामले में यह कहना है कि उसके जानकार के खातों में राशि डलवाकर निकालती थी और नगद ही उन्हें प्रदान करती थी। अन्नपूर्णा को गिरफ्तार करने वाली टीम में क्रिश्चयनगंज थानाधिकारी दिनेश कुमावत, सहायक उपनिरीक्षक कुंदन सिंह, हैडकॉन्सटेबल भगवान सिंह, कॉन्सटेबल हेमलता टेलर सहित अन्य का विशेष योगदान रहा। एसपी ने पूरी टीम की भूरि-भूरि प्रशंसा भी की।

नवीन वैष्णव
(पत्रकार), अजमेर

  • 16
  • मार्च

नवीन वैष्णव अजमेर
अजमेर के जयपुर रोड़ स्थित हाथीभाटा पावर हाऊस के सामने खड़ी फॉर्च्यूनर कार से दस लाख लूटने वाले गिरोह को अजमेर की कोतवाली थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इसका खुलासा उत्तर वृताधिकारी डॉ प्रियंका ने किया। उन्होंने बताया कि फॉर्च्यूनर का शीशा तोड़कर दस लाख और पिस्टल से भरा बैग उड़ाने वाले तमिलनाडू के तिरूचिरापल्ली के गिरोह ने कई चौंकाने वाली जानकारियां दी है। गिरोह अमूमन मेले या भीड़ भाड़ वाले ईलाके में पहुंचता है और वहां पर सूनी पड़ी कार, या दुकान को अपना निशाना बनाकर तुरंत ही बस या ट्रेन से आगे की ओर रवाना हो जाते हैं। वहीं गिरोह का सरगना चन्द्रशेखर है जो कि बड़ी रकम लेकर इन सबसे अलग जाता है ताकि यदि गिरोह के अन्य सदस्य पकडे भी जाएं तो रकम सुरक्षित रहे और सदस्यों के परिवारों तक भी इसका हिस्सा पहुंच सके। सरगना चन्द्रशेखर के संबंध में भी गिरोह के सदस्यों से पूछताछ की जा रही है। डॉ प्रियंका बताती है कि गिरोह के सभी 9 सदस्य अलग-अलग कहानी बयां कर रहे हैं लेकिन पुलिस जल्द ही उनसे अन्य वारदातों से भी पर्दा उठा सकेगी। उन्होंने कहा कि गिरोह के तुंरत पकड़े जाने में पुलिस का टीम वर्क अह्म रहा है। वारदात होने के तुरंत बाद ही सीसीटीवी से इसकी जानकारी मिल गई थी कि बदमाश स्टेशन में घुसे हैं। बदमाशों के बैग पर पुलिस ने फोकस किया और यहां से रवाना हुई जोधपुर इंदौर ट्रेन के सभी स्टेशन की पुलिस को इसके बारे में बताया गया। यही कारण रहा कि निम्बाहेड़ा के थानाधिकारी सुधांशु सिंह ने इन्हें जनरल कोच से दबोच लिया।
ट्रांस्लेटर की ली जा रही मदद
वारदात में पकड़े गए सभी बदमाश तमिलनाडू के रहने वाले हैं और तमिल भाषा ही बोलते और समझते हैं। कुछ सदस्य हिन्दी भी समझते हैं लेकिन टूटी फूटी ही बोल पाते हैं। ऐसे में पुलिस इनसे पूछताछ के लिए ट्रांस्लेटर की मदद भी ले रही है। तमिल भाषा जानने वाले व्यक्ति को बुलवाकर इनसे पूछताछ करवाई जा रही है। 

नवीन वैष्णव
(पत्रकार), अजमेर