इंदौर विकास प्राधिकरण के सब इंजीनियर के 8 ठिकानों पर लोकायुक्त टीम की दबिश , अभी तक मिली 25 लाख रुपए और साेने-चांदी की ज्वैलरी

04 मई 2019
Author :  

इंदौर.मध्यप्रदेशलोकायुक्त की टीम ने शनिवार सुबह इंदौर विकास प्राधिकरण के सब इंजीनियर गजानंद पाटीदार और उनके बड़े भाई ठेकेदार रमेश भाटीदार घर एक साथ 8ठिकानों पर छापा मारा। यहां से टीम को बड़ी मात्रा में सोने-चांदी की ज्वैलरी और नकदी मिली है। लोकायुक्त पुलिस की मानें तो सब इंजीनियर गजानंद अपने भाई के बिजनेस में भी हिस्सेदारहैं। उन्होंने जमीन और कंस्ट्रक्शन के काम से बड़ी मात्रा में धन कमाया है। टीम की कार्रवाई अभी जारी है।

लोकायुक्त की टीम सुबह 6 बजे एक साथ सभी ठिकानाें पर दबिश देने पहुंची। सबसे पहले टीम एक स्कीम नंबर 78 के अरण्य नगर स्थित उनके निवास पर पहुुंची। टीम को जांच में घर के बगल से ही दो 1500 स्क्वायर फीट के प्लॉट मिले हैं। सब इंजीनियर के घर के पास ही भाई की पत्नी वंदना और बहन सुनीता पाटीदार का भी मकान है।इसके अलावा स्कीम नंबर 94 में भी एक मकान के दस्तावेज मिले हैं।

इंदौर में स्कीम-78 में मकान, खाली प्लॉट और गार्डन

इंदौर के अलावा एक टीम खरगोन स्थित शेगांव में उनके पैतृक निवास पर भी पहुंची। आधिकारिक सूत्रों की मानें तोअब तक की कार्रवाई में 25 लाख नकद, सवा लाख का गोल्ड (वेल्युएशन होना बाकी), इंदौर में स्कीम-78 में 2500 स्क्वायर फीट कामकान औरखाली फ्लाॅट, गार्डन है।

खेती की जमीन, मकान समेत अन्य संपत्तियों का खुलासा

सब इंजीनियर के पास से खेती की जमीन, दुकान, मकान औरअन्य संपत्तियों का खुलासा भी हुआ है। बताया जाता है कि गजानन पहले ट्रेसर के रूप में इंदौर विकास प्राधिकरणमें काम करते थे। साल 2000 में बतौर उपयंत्री के तौर पर पर उनकी स्थापना हुई। गजानन की सैलरी लगभग 55 हजार रुपए मासिकहै।

 

 

 
 
250 Views
palpal

Email यह ईमेल पता spambots से संरक्षित किया जा रहा है. आप जावास्क्रिप्ट यह देखने के सक्षम होना चाहिए.