-->

छोटी बात में बड़ी बात

03 अप्रैल 2017
Author :  

छोटी बात में बड़ी बात
बड़े मकान की
बड़ी खिड़की से झांका
हरे भरे लहलहाते
वृक्षों से भरा द्रश्य दिखा
नदी में बहता निर्मल जल
पक्षियों का कलरव
प्रेम में डूबा फाख्ता का
जोड़ा दिखाई दिया
मकान के छोटे से कमरे की
छोटी सी खिड़की से देखा
वही द्रश्य दिखाई दिया
छत पर जाकर देखा
वहाँ से भी वही दिखा
जो पहले देख चुका था
अब तक समझ चुका था
मन की आँखें खुली हो
दृष्टि विहंगम हो
सोच सार्थक
सकारात्मक हो
छोटी बात में भी
बड़ी बात दिख सकती है

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
वरिष्ठ चिकित्सक,अजमेर

154 Views
palpal