-->

फैनी बदला बेहद गंभीर तूफान में, ओडिशा के 11 जिलों से हटाई गई आचार संहिता

01 मई 2019
Author :  

नई दिल्ली/पुरी. फैनी बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल गया है। इसके शुक्रवार दोपहर तक ओडिशा के तट गोपालपुर और चांदबली के बीच से गुजरने की आशंका है। मौसम विभाग ने पूरे राज्य में यलो वॉर्निंग जारी की है। उधर, चुनाव आयोग ने यहां के 11 जिलों में राहत और बचाव कार्य में तेजी लाने के मकसद से आचार संहिता हटा ली है। 

ओडिशा तट से टकराते वक्त फैनी की रफ्तार 175 से 185 किलोमीटर प्रति घंटे के आसपास होगी जो 205 किलोमीटर प्रति घंटे तक पहुंच सकती है। बौध, कालाहांडी, संबलपुर, देवगढ़ और सुंदरगढ़ समेत कुछ स्थानों पर मूसलाधार बारिश होने की आशंका है। इस बीच ओडिशा में अलर्ट जारी करते हुए स्कूल-कॉलेजों की 2 मई तक छुट्टी कर दी गई है।

कहां, कब पहुंचेगा तूफान?

d

इलाके खाली कराने का सुझाव
मौसम विभाग ने इन राज्‍यों के तटीय इलाके को खाली करने का सुझाव दिया है। मौसम विभाग ने मछुआरों को गहरे समुद्र में न जाने की सलाह दी है। खासकर 2 मई से 4 मई के बीच
 
ओडिशा में इन 11 जिलों में हटाई गई आचार संहिता 
चुनाव आयोग ने ओडिशा के पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, बालासोर, मयूरभंज, गजपति, गंजम, खोरधा, कटक और जाजपुर जिलाें से आचार संहिता हटा ली है, ताकि राहत और बचाव कार्य में किसी तरह की कोई बाधा न आए। राज्य सरकार ने आयोग से इस संबंध में प्रस्ताव रखा था। मौसम विभाग के चक्रवात चेतावनी प्रभाग का कहना है कि फिलहाल फैनी पुरी से 760 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिण पश्चिम और आंध्रप्रदेश के विशाखापट्टनम से 560 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपूर्व में है। 

4 राज्यों के लिए अग्रिम राहत राशि जारी

फैनी की आशंका को देखते हुए केंद्र ने चार राज्यों को 1086 करोड़ रुपए का एडवांस फंड जारी किया, ताकि आपातकालीन परिस्थितियों से निपटा जा सके। नौसेना भी हाईअलर्ट पर है। फैनी को पिछले साल आए तितली तूफान से भी ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है। तितली तूफान में 60 लोगों की मौत हुई थी।

अगले 72 घंटों तक उप्र में तेज बारिश के आसार
मौसम विभाग का अनुमान है कि फैनी की वजह से अगले 72 घंटों के दौरान उप्र में तेज बारिश हो सकती है। 2 मई से 4 मई तक प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश के साथ 30 से 40 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवा भी चलेगी। मौसम में बदलाव की वजह से उप्र के लोगों को गर्मी से भी राहत मिलने वाली है। हालांकि, इसकी वजह से पूर्वी उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार पर असर पड़ने की संभावना है। 

44 Views
palpal