-->

बैरिन भई रातें

12 जनवरी 2017
Author :  

बिन पिया बैरिन भई सब रातें
किसे बुलाऊँ सौतन भई सब बातें
हेर - हेर देखत कब आये प्राण प्यारा
बिन उसके हाड़ माँस सूख भए खाँचे

पिया गया परदेश न भेद काहूँ को दूँ
सखिन मेरी सब प्रिय के रंग - राती
कोऊँ ठौर न आवे बस मन मेरो दग्धावे
जे भँवरो रोज बैठ कर नियरे सुलगावै

Image may contain: one or more people, outdoor and nature
 

प्रिय के बिन राति ये कल्प सी लागे
उर उरोज में तेरो प्रेम शूल कुटिल उगावे
यह तन सुलग सुलग कर कागा सा लागे
कागा तो अच्छो कोयल के हिय लागे

पूस माघ की ये रातें जी को ठन्डावे
गति मेरे जिय की ऐसी ज्यों सापिन डरावे
धक -धक करता ज्यों इंजन सा जावे
प्रिय बिन बैरिन भये मेरो हिय गात

डॉ मधु त्रिवेदी

 
 
895 Views
palpal