# Tags

शुक्र प्रदोष:गरीबी, मृत्यु , दु:ख और ऋणों से मुक्ति का मार्ग

आचार्य डॉ0 विजय शंकर मिश्र

प्रत्येक चन्द्र मास की त्रयोदशी तिथि के दिन प्रदोष व्रत रखने का विधान है. यह व्रत कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष दोनों को किया जाता है. सूर्यास्त के बाद के 2 घण्टे 24 मिनट का समय प्रदोष काल के नाम से जाना जाता है. प्रदेशों के अन